लगातार दूसरी बार, सुपर ओवर का वार

अकल्पनीय, अद्भुत, अविश्वसनीय प्रदर्शन भारतीय क्रिकेट टीम का न्यूजीलैंड के खिलाफ वेलिंगटन में देखने को मिला, जहां लगातार दूसरी बार मेजबान टीम को सुपर ओवर में हार का सामना करना पड़ा। टीम इंडिया की बढ़त 4-0 की हो गई।इस हार ने वास्तव में न्यूजीलैंड को यह विचार करने पर विवश कर दिया होगा कि लगातार दूसरी बार जीतते – जीतते सुपर ओवर में जाकर हार का सामना क्यों करना पड़ा?

             इससे पहले भारतीय टीम की बल्लेबाजी कुछ परिवर्तन के बाद आज अपने रंग में नजर नहीं आयी। के एल राहुल के 26गेंदों में बनाए गए तेज व उपयोगी 39 रन,मनीष पांडे के जुझारू अर्द्धशतक, शार्दुल व सैनी के साथ छोटी-छोटी उनकी साझेदारियों की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को जीत के लिए 166 रनों का लक्ष्य दिया। इसके जवाब में कालिन मुनरो व साइफर्ट के शानदार अर्द्धशतकों के कारण न्यूजीलैंड ने मैच लगभग जीत ही लिया था परन्तु तभी ओवर नंबर अठारह लेकर आए युवा सनसनी नवदीप सैनी,जिन्होंने सिर्फ चार रन अपने ओवर में खर्च किए। इसके बाद अंतिम ओवर का रोमांच पिछले मैच की तरह,जो शमी का था, देखने को मिला,जब शार्दुल ने किया।इस ओवर सिर्फ सात रनों की दरकार थी न्यूजीलैंड को परंतु दूसरी गेंद पर चौका खाने के बावजूद भी दो विकेट व दो रन आउट विकेट निकलवा कर शार्दुल ने मुकाबला लगातार दूसरी बार सुपर ओवर की ओर मोड़ दिया।

यह भी पढ़ें – नेतृत्व/प्रदर्शन/विश्वास/साहस और सफलता का फार्मूला

           सुपर ओवर में बुमराह के सामने न्यूजीलैंड ने रन बनाए कुल 13 एक विकेट खोकर और लक्ष्य भारत के लिए रहा 14 का। रोहित की अनुपस्थिति में राहुल का साथ देने आए कप्तान कोहली। साउदी की पहली दो गेंदों पर शानदार छक्के-चौके लगाकर तीसरी गेंद पर राहुल आउट होकर पवेलियन लौट गए। फिर सैमसन के क्रीज पर आने पर कोहली ने समझदारी से अगली दो गेंदों पर एक चौके के साथ छह रन बनाकर एक गेंद रहते ही सुपर ओवर में लगातार दूसरी बार टीम इंडिया को विजय दिला दी।इस तरह न्यूजीलैंड को लगातार दूसरी बार सुपर ओवर में हार का मुंह देखना पड़ा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here