तेज गेंदबाजी बना टीम इंडिया का धारदार-हथियार

एक समय था जब टीम इंडिया को स्पिन गेंदबाजी के लिए जाना जाता था।बिशन सिंह बेदी,प्रसन्ना,अनिल कुंबले, हरभजन सिंह आदि हमारे मैच विनर रहते थे।आज भी आर अश्विन, रविन्द्र जडेजा, कुलदीप यादव, यजुवेंद्र चहल मैच जीता रहे हैं परन्तु आज भारतीय टीम जो विभिन्न देशों में भी निरंतर सफलता अर्जित कर रही है, उसके पीछे हमारे गेंदबाजी आक्रमण में तेज गेंदबाजों के सटीक पौध का होना है। कहना ग़लत नहीं होगा कि महान् पूर्व कप्तान कपिल देव ने जो काम शुरू किया था, आज वह अपने चरम पर है।कपिल देव की सफलता के साझीदार चेतन शर्मा, मनोज प्रभाकर, संजीव शर्मा, अतुल वासन आदि बने।

तेज गेंदबाजी बना टीम इंडिया का धारदार हथियार

उनकी विरासत को जवागल श्रीनाथ, वेंकटेश प्रसाद, जहीर खान, आशीष नेहरा, इरफान पठान आदि ने बखूबी संभाला,तिरंगा लहराने का कई अवसर प्रदान किया।

यह भी पढ़ें – टीम इंडिया को मिला नया विकेटकीपर बल्लेबाज

तेज गेंदबाजी बना टीम इंडिया का धारदार हथियार

आज टीम इंडिया के पास एक साथ मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर,बुमराह, इशांत शर्मा, उमेश यादव, नवदीप सैनी, शार्दुल ठाकुर,दीपक चाहर जैसे तेज गेंदबाजों की फौज है।इन सभी का लोहा दुनिया मान रही है। हालिया भारतीय टीम की सफलताओं में इन सभी का विशेष योगदान रहा है।अब तो बुमराह,शमी,सैनी जैसे गेंदबाजों ने अपने खतरनाक बाउंसर, बेहतरीन स्विंग व सटीक यार्कर के सहारे विपक्षी बल्लेबाजों को क्रीज पर टिकना मुश्किल कर दिया है। कहना ग़लत नहीं होगा कि कपिल देव से आरंभ हुआ यह सफर आज भारतीय क्रिकेट को स्वर्णिम दौर में ले जाने को प्रतिबद्ध है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here