के एल राहुल ही क्यों?
Image Source - Hindustan Times

भारतीय क्रिकेट टीम में दो समस्याओं का निराकरण अपेक्षित है।पहला नंबर चार पर कौन बल्लेबाज तथा दूसरा विकेटकीपर कौन? पहले का समाधान लगभग हो चुका है जहां श्रेयस अय्यर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं परन्तु दूसरे का समाधान शायद अभी नहीं हुआ है। वास्तव में महेंद्र सिंह धोनी की गैरमौजूदगी में उनकी भरपाई करने वाला अभी तक कोई हुआ ही नहीं। चाहे ऋषभ पंत हों या रिद्धिमान साहा–किसी में कोई कमी तो किसी में कोई।संजू सैमसन टीम मैनेजमेंट के आंखों के तारे नहीं है अतः उनका पूरा टेस्ट ही नहीं हो पाया है।सो समस्या जस का तस और विश्व कप में ज्यादा वक्त है नहीं। विगत दिनों आस्ट्रेलिया के साथ सम्पन्न हुई एक दिवसीय श्रृंखला में के एल राहुल का बल्लेबाजी के साथ विकेटकीपिंग में बेहतरीन प्रदर्शन उक्त दूसरी समस्या का समाधान है शायद।

के एल राहुल ही क्यों?
Image Source – India Today

यह भी पढ़ें – तेज गेंदबाजी बना टीम इंडिया का धारदार हथियार

हालांकि यह कहना जल्दबाजी भी हो सकता है परन्तु गौर से देखने पर यह उचित विकल्प जान पड़ता है। ऐसा करने पर टीम में विशुद्ध छ: बल्लेबाज हो जाते हैं और साथ ही पांच विशुद्ध गेंदबाज भी।इन पांच गेंदबाजों में एक आलराउंडर भी रह सकता है। दूसरी बात यह कि अगर बल्लेबाजी में किसी का फार्म ढीला भी हो तो या तो बेंच स्ट्रेंथ से अन्य विशुद्ध बल्लेबाज अथवा किसी आलराउंडर को टीम में शामिल कर सकते हैं।एक बल्लेबाजी आलराउंडर से गेंदबाजी का विकल्प बढ़ जाता है।यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है कि क्या करना है? इसी क्रम में, दूसरी दृष्टि से सोंचे तो विशुद्ध छ: बल्लेबाजों के साथ विशेषज्ञ विकेटकीपर को शामिल करने पर बल्लेबाजी तो मजबूत होती है (?) परन्तु गेंदबाज चार ही रह जाते हैं।ऐसी स्थिति में आपको विशुद्ध बल्लेबाज की जगह एक आलराउंडर तो चाहिए ही अथवा पांच विशुद्ध बल्लेबाज, एक विशुद्ध विकेटकीपर व पांच विशुद्ध गेंदबाज के साथ खेला जाय।ग़लत यहां किसी भी कंबिनेशन में नहीं बशर्ते कि प्रदर्शन अच्छा हो परन्तु ऐसा वर्तमान में दिख नहीं रहा है। अतएव अगर के एल राहुल विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर अच्छा प्रदर्शन करने में लगातार सफल होते हैं,जैसा कि उन्होंने दिखाया भी है, तो विकल्प ज्यादा और टीम इंडिया का संयोजन ज्यादा सही समझ में आता है।देखा जाय तो के एल राहुल ने टीम इंडिया को विकल्प तो दे दिया है और कप्तान कोहली उनका समर्थन करते दिख भी रहे हैं। देखना बस यह है कि न्यूजीलैंड के दौरे पर टीम मैनेजमेंट किस विकल्प के साथ मुकाबले में उतरती है?फिलहाल के एल राहुल का पलड़ा भारी है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here