कीवियों के सामने भारतीय गेंदबाज हुए आफ कलर (1)

टी-20 सीरीज पर 5-0 से कब्जा जमाने के बाद पहले एकदिवसीय मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय गेंदबाज आफ कलर/बेरंग नजर आये। परिणाम इसका भारतीय टीम के विपक्ष में रहा, मेहमान टीम मुकाबला चार विकेट से हार गई। हेमिल्टन वनडे में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम के नए ओपनर्स पृथ्वी शॉ व मयंक अग्रवाल ने ठीक-ठाक शुरुआत करते हुए 50 रनों की साझेदारी की। दोनों के आउट होने के बाद कप्तान कोहली के अर्द्धशतक (63 गेंदों पर50 रन) व श्रेयस अय्यर के पहले शतक (107 गेंदों पर103 रन), साथ ही विकेटकीपर बल्लेबाज के एल राहुल के विस्फोटक अर्द्धशतक ( 64 गेंदों पर88 रन) व केदार जाधव के 15 गेंदों में 25 रनों की बदौलत निर्धारित पचास ओवरों में भारत ने चार विकेट पर 347 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। न्यूजीलैंड की तरफ से टीम साउदी ने 85 रन देकर 2 विकेट झटके।

कीवियों के सामने भारतीय गेंदबाज हुए आफ कलर (1)

इसके जवाब में न्यूजीलैंड ने शुरुआत से ही प्लानिंग के तहत भारतीय गेंदबाजों पर दबाव बनाने की रणनीति पर काम किया। मार्टिन गुप्टिल के 41 गेंदों में 32 रन, हेनरी निकोलस के 82 गेंदों में 78 रन,रास टेलर के विस्फोटक शतक (84 गेंदों में107 रन),टाम लेथम के ताबड़तोड़ 48 गेंदों में बनाए गए 69 रनों की बदौलत निर्धारित पचास ओवरों से ग्यारह गेंद पहले ही न्यूजीलैंड ने 348 रनों का लक्ष्य छः विकेट खोकर हासिल कर लिया। वास्तव में रास टेलर व टाम लेथम की गतिमान साझेदारी ने न्यूजीलैंड को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। इसी के चलते न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ सबसे बड़े लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लिया।

यह भी पढ़ें – झूमे थे….झूम रहे हैं….. झूमते रहेंगे

इस दौरान जहां कोहली ने बिजली-सी तेजी दिखाते हुए एक रन आउट किया, वहीं क्षेत्ररक्षण के दौरान रास टेलर को जडेजा के ओवर में कुलदीप यादव के द्वारा जीवनदान देना भारतीय टीम के हार का एक बड़ा कारण बना। गेंदबाजी में कुलदीप, शार्दुल,शमी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा। भारतीय गेंदबाजों ने विगत सात सालों में सबसे ज्यादा 24 वाइड फेंकने का शर्मनाक रिकॉर्ड भी बनाया। भारतीय गेंदबाजों के इस प्रदर्शन के उलट न्यूजीलैंड का बल्लेबाजी में बेहतरीन प्रदर्शन उनके यादगार जीत का कारण रहा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here