कीवियों का सीरीज में सफाया

कुछ तो बात है यहां जहां हर शख्स की अलग कहानी है।
माहौल अलग स्थान अलग पर छोड़ दी अपनी निशानी है।।

उपर्युक्त बातें भारतीय क्रिकेट टीम पर सौ फीसदी सही बैठती है। क्या कहेंगे इसे जब आपकी तरफ से लक्ष्य कुछ बड़ा नहीं रखा गया। मात्र 164 का लक्ष्य, वो भी भला हो रोहित और राहुल का, जिनके सहारे भारतीय टीम ने सम्मानजनक स्कोर 163 रन बनाया। रोहित ने जहां 41 गेंदों में 60, वहीं राहुल ने 33 गेंदों पर 45 रनों की पारी खेली।इस लक्ष्य को पाकर खुश भी हुई होगी न्यूजीलैंड की टीम परंतु शीघ्र ही 17 रनों पर 3 विकेट गंवाकर खुद को संकट में भी डाल लिया। खैर,रास टेलर व साईफर्ट थे क्रीज पर डटे और उन्हें एक मोमेंटम चाहिए था और भारत ने दिया उन्हें। शिवम् दुबे का दसवां ओवर और ताबड़तोड़ 34 रन। देखते ही देखते लगा भाग्य मेजबानों के साथ है आज परंतु इतिहास-पुरुष शिवम् दुबे (टी-20 क्रिकेट में भारत के लिए एक ओवर में सर्वाधिक रन लुटाने वाले) के इस ओवर के बाद भारतीय गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड की मानों कमर ही तोड़ दी।क्या सैनी,क्या बुमराह और क्या शार्दुल—-सभी ने एकजुट होकर प्रयास किया।चहल व सुंदर भी भ्रमित करने लगे कीवियों को। नतीजा दबाव में फिर से कीवी टीम ने हथियार डाल दिए। भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड को 5-0 से ऐसा दर्द प्रदान किया,जिसे भुलाने में उन्हें समय लगेगा।

कीवियों का सीरीज में सफाया

इस जीत के दौरान संजू सैमसन के द्वारा बाउंड्री पर बचाया गया सुपरमैन स्टाइल छक्का स्मरणीय रहेगा।अन्य फिल्डरों का योगदान भी पिछले मुकाबले के ‌वनिस्पत् ज्यादा अच्छा रहा। हां, राहुल की कप्तानी भी आकर्षक रही।अंत में गेंदबाजी में प्रदर्शन पर गौर करें।3/12 -जसप्रीत बुमराह,2/23- नवदीप सैनी,2/38- शार्दुल ठाकुर,1/20- वाशिंगटन सुंदर ने अविस्मरणीय प्रदर्शन किया। सही बात तो यह है कि इस पांच मैचों की सीरीज में पहले दो मैचों के बाद जहां न्यूजीलैंड दबाव में बिखरने के लिए याद की जाएगी वहीं मेहमान टीम इंडिया को दबाव में निखरने के लिए याद किया जाएगा।

यह भी पढ़ें – लगातार दूसरी बार, सुपर ओवर का वार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here