ऊपरी क्रम की विफलता से सीरीज में हार

टी-20 सीरीज में शानदार जीत दर्ज करने के बाद मेहमान टीम इंडिया को एक दिवसीय श्रृंखला में लगातार दूसरी हार का सामना कीवियों से करना पड़ा।जीत के लिए मिले लक्ष्य 274 का पीछा करना कोई मुश्किल काम नहीं था परन्तु ऊपरी क्रम की लगातार विफलता से भारतीय टीम सीरीज गंवा बैठी। सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल फिर से नाकाम रहे तथा मात्र तीन रन बनाकर चलते बने। पृथिवी शाह ने छः शानदार चौके लगाकर उम्मीद जताई परन्तु उन्नीस गेंदों पर 24 रन बनाकर वे भी पवेलियन लौट गए।अब जिम्मेदारी कप्तान कोहली के कंधे पर थी परन्तु सस्ते में उनके निपटने,साथ ही इनफार्म के एल राहुल के आउट होने के कारण भारतीय बल्लेबाजी दबाव में आ गई। हालांकि श्रेयस अय्यर ने पारी संभालने की पूरी कोशिश की परंतु दूसरे छोर से केदार जाधव का विकेट गंवाकर टीम इंडिया फिर संकट में आ गई। इसके बाद रविन्द्र जडेजा ने लड़ाई जारी रखी परन्तु अबकी बार अय्यर शानदार अर्धशतक पूरा करने के बाद एक खराब शाट खेलकर विदा हो गए। इसके बाद जडेजा ने पुछल्ले बल्लेबाजों शार्दुल ठाकुर, नवदीप सैनी के साथ धीरे-धीरे टीम इंडिया को लक्ष्य तक पहुंचाने का जिम्मा उठाया।इस दौरान नवदीप सैनी ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए उनचास गेंदों में शानदार 45 रनों की पारी खेली। अंतिम दो ओवरों में कुल तेईस रनों की दरकार थी परन्तु दबाव में जडेजा ने 73 गेंदों पर जुझारू 55 रन बनाने के बाद अंतिम बल्लेबाज के रूप में अपना विकेट खो दिया ‌और इस तरह भारत 22 रनों से यह मैच हार गया, साथ ही सीरीज भी हाथ से फिसल गई।

ऊपरी क्रम की विफलता से सीरीज में हार

इससे पहले बल्लेबाजी करते हुए न्यूजीलैंड ने बीच में लड़खड़ाने के बाबजूद, ओपनर बल्लेबाज मार्टिन गुप्टिल के शानदार 79 रनों, इनफार्म रास टेलर के शानदार 73 रनों, साथ ही पुछल्ले बल्लेबाज जेमिनसन के साथ नौवें विकेट के लिए 51 गेंदों पर 76 रनों की नाबाद साझेदारी के कारण निर्धारित पचास ओवरों में आठ विकेट खोकर 273 रन बनाए।जेमिनसन ने चौबीस गेंदों पर शानदार व उपयोगी 25 रनों की पारी खेली। उन्होंने गेंदबाजी में भी हाथ दिखाते हुए दो महत्त्वपूर्ण विकेट चटकाए।इस आलराउंड प्रदर्शन के कारण जेमिनसन को मैन ऑफ द मैच चुना गया।भारत की तरफ जडेजा ने कसी गेंदबाजी करते हुए दस ओवरों में पैंतीस रन देकर एक विकेट लिया। उन्होंने एक बल्लेबाज को शानदार तरीके से रन आउट भी किया। बाकी गेंदबाजों का प्रदर्शन भी ठीक-ठाक रहा परन्तु अंतिम ओवरों में विकेट नहीं निकाल पाने के कारण स्कोर सम्मानजनक बन गया।इस जीत के साथ ही न्यूजीलैंड ने तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बनाते हुए सीरीज को अपने नाम कर लिया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here